" बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से.. हो सके तो लौट के आजा किसी बहाने से.. तू लाख खफा हो पर एक बार तो देख ले.. कोई बिखर गया है तेरे रूठ जाने से "

" ना  जिद है , ना  कोई गुरूर है हमे.. बस तुम्हे पाने का सुरूर है हमे.. इश्क गुनाह है तो गलती की हमने.. सजा जो भी हो मंजूर है हमे "

" तुम्हारे रूठ जाने के बाद भी.. तुम्हे मनाने का हुनर रखता हूँ .. अगर हमारे बीच कोई तीसरा ना हो तो.. सारी दुनिया से भीड़ जाने का जिगर रखता हूँ  "

" मेरी सारी कोशिशें नाकाम.. होती है उनको मनाने की.. ना जाने कहां से सीखी है.. ये अदा रूठ जाने की "

" मनाने को खुशियो का यह दौर है.. पर हम जानते है हकीकत कुछ और है  "

" तू जो रूठ्ने लगा है.. दिल टूटने लगा है.. अब सब्र का भी दामन.. मुझसे छूटने लगा है "

For More..