Motivational Story In Hindi for success-आइये दिन को बेहतर बनाये

1
419
Motivational Story In Hindi or success
Motivational Story In Hindi or success

हेल्लो दोस्तों , आज हम आपके लिए लेकर आये है बहुत ही प्यारी-प्यारी कहानियां (Motivational story’s) , जिन्हें पढ़कर आप रोमांचित भी होंगे और प्रेरित भी | कई बार लोगो ने कहाँ की ये कहानियां पढने से क्या होता है , तो मेने कहाँ की मुझे लिखने में अगर इतना मजा आता है तो सोचो पढने वालो को कितना मजा आता होगा और वह कितने प्रेरित होते होंगे |

हमें इन कहानियों से कुछ ना कुछ जरुर सिखने को मिलता है अतः हमे यह कहानियां जरुर पढनी चाहिए |

तो आइये शुरू करते है :-Motivational Story In Hindi for success

1.खुद के सामर्थ्य को पहचाने :(Motivational Story In Hindi for success)

Motivational Story In Hindi for success:एक बार एक चिड़ियाँ एक पेड़ पर रहती थी , एक बार उसका एक दाना उस पेड़ में फस जाता है ..

चिड़ियाँ उस पेड़ से बहुत अनुरोध करती है की मेरा दाना मुझे लौटा दे, लेकिन इतना विशालकाय पेड़ उस चिड़ियाँ की कहाँ सुनने वाला था |

हार कर चिड़ियाँ बढई के पास गयी और उसने बढई को कहा की तुम उस पेड़ को काट दो क्योंकि वह मेरा दाना नहीं दे रहा है |

भला एक दाने के लिए  बढई पुरे पेड़ को थोड़े ही ना काटता अतः उसने भी मना कर दिया |

फिर चिड़ियाँ राजा के पास गयी और राजा से कहा की “आप बढई को सजा दो क्योंकि बढई पेड़ नहीं काट रहा और वह पेड़ मेरा दाना नहीं दे रहा..

Inspired story in hindi

राजा ने भी उस चिड़ियाँ को डाट कर भगा दिया और कहा की एक दाने के लिए तू यहाँ पहुच गयी है भाग जा यहाँ से |

लेकिन चिड़ियाँ हार कहाँ मानने वाली थी |

अतः वह महावत के पास गयी और बोली की “जब अगली बार राजा हाथी की पीठ पर बेठेगा तो तुम उसे गिरा देना क्योंकि राजा बढई को सजा नहीं देता और बढई पेड़ नहीं काटता और पेड़ उसका दाना नहीं देता |

महावत ने भी चिड़ियाँ को डाटकर भगा दिया |

फिर चिड़िया हाथी के पास गयी और अनुरोध किया की जब महावत तुम्हारी पीठ पर बेठे तो तुम उसे गिरा देना क्योंकि

महावत राजा को गिराने को तेयार नहीं

राजा बढई को सजा देने को तेयार नहीं

बढई पेड़ काटने को तेयार नहीं और

पेड़ मेरा दाना देने को तेयार नहीं |

हाथी ने भी चिड़िया को डाटा की तुम महावत और राजा को एक छोटे से दाने के लिए केसे गिरवा सकती हो , भाग जाओ यहाँ से नहीं मार डालूँगा |

चिड़ियाँ आखिर में चींटी के पास गयी और उससे कहा की “तुम हाथी की सुंद  में घुस जाओ ..

चींटी ने भी उसे डाट दिया और कहाँ की आई बड़ी हाथी की सुंद में घुसाने वाली |

अब तक उस चिड़ियाँ की सब्र का बांध टूट गया और उसने गुस्से में चींटी को कहाँ की भले ही में बाकि लोगो का कुछ नहीं बिगड़ सकू लेकिन तुझे तो में अपनी चोंच में डालकर खा सकती हूँ |

चींटी डर गयी …भाग करके वह हाथी के पास गयी ..हाथी भागता हुआ महावत के पास ..महावत राजा के पास की राजन उस चिड़ियाँ का काम कर दीजिये नहीं तो में आपको गिरा दूंगा …राजा ने तुरंत बढई को बुलवाया और कहाँ की तुरंत उस पेड़ को काट नहीं तो में तुझे सजा दूंगा … बढई पेड़ के पास पंहुचा … बढई को देखते है पेड़ थरथराने लगा और बढई से कहाँ की मुझे मत काटो में चिड़ियाँ का दाना लौटा देता हूँ |

और पेड़ ने वह दाना चिड़ियाँ को लौटा दिया |

Moral:(Motivational Story In Hindi for success)

आपको अपनी ताकत को पहचानना होगा , आप भले कितने ही कमजोर क्यों ना हो लेकिन पूरी मेहनत और लगन से किसी काम के पीछे पड़ जायेंगे तो वह काम जरुर होके रहेगा , यकीन कीजिये हर ताकत के आगे एक और ताकत होती है और अंत में सबसे ताकतवर आप होते है , अपने सपनो को पूरा करने के लिए हर व्यक्ति को बहुत से मुश्किल पडावो से होकर गुजरना पड़ता है |



2.सोच बदलो जिन्दगी बदल जाएगी :(Motivational Story In Hindi for success)

Motivational Story In Hindi for success:एक बार एक गाँव में बहुत भयंकर अकाल पड़ा , जिससे गाँव के सभी लोग बहुत ही परेशान हो गये , बच्चे तो बच्चे , बड़े भी इस अकाल के कारण भूख प्यास से बेचेन हो उठे थे , किसी को समझ नहीं आ रहा था की इसका क्या हल निकाला जाये |

पड़ोस के गाँव में एक विद्वान महात्मा रहते थे |

सब ने महात्मा से इस अकाल वाली समस्या का समाधान माँगने की ठानी और उनके पास चले गये , और अपनी सारी समस्या महात्मा को बताई |

महात्मा ने कहाँ की चिंता मत कीजिये, में कुछ  हल निकालता हूँ |

यह सुनकर सभी गाँव वाले महात्मा के यहाँ से लौट आये |

पुरे 10 दिन बीत गये लेकिन महात्मा को कोई उपाय नहीं सुझा ,

Best inspirational story in hindi for success

अतः उन्होंने गाँव वालो से बोल दिया की अपनी मदद तो ऊपर बेठा भगवान ही कर सकता है ,और वे सब भगवान से प्रार्थना करने लगे की हमें इस अकाल से मुक्ति दिलाये और बारिश कराए |

जब उन्होंने सच्चे मन से प्रार्थना करी तो आकाश से आकाशवाणी हुई की “अगर तुम सभी गाँव वाले तुम्हारे गाँव के कुए में 1-1 लौटा दूध का डालोगे तो कल इस गाँव में बहुत ही जोरदार बारिश होगी , और तुम्हे इस अकाल से छुटकारा मिलेगा |

सब के सब खुश हुए , और रात का इन्तजार करने लगे |

सभी गाँव वालो ने अपने-अपने हिस्से का दूध का लौटा उस कुए में डाला लेकिन उस गाँव में एक कंजूस भी रहता था |

उस कंजूस ने सोचा की “इतने गाँव वालो ने दूध डाला है तो अगर में पानी डाल दूंगा तो किसको क्या पता चलेगा “

अतः वह दूध की जगह पानी डाल देता है |



दुसरे दिन सुबह होते ही सभी गाँव वाले बारिश के इन्तजार में बेठ जाते है लेकिन सुबह से दोपहर और दोपहर से श्याम हो जाती है लेकिन बारिश की बिलकुल भी सम्भावना नहीं दिखाई देती है |

जब सभी गाँव वाले परेशान हो गये तो सभी उठके उस कुएं के पास गये और यह देखकर अचंभित हो गये की “कुए में दूध की एक बूंद भी नहीं थी केवल पानी ही कुए में दिख रहा था “

सभी लोग एक-दुसरे की तरफ देखने लगे और समझ गये की बरसात क्यों नहीं हुई |

और यह सब इसीलिए हुआ की “जेसे उस कंजुष ने सोचा की मेरे एक दूध नहीं डालने से क्या फर्क पड़ता है वेसे ही सभी गाँव वालो ने सोचा “

और सभी ने उसी कंजूस की तरह कुए में पानी ही डाला |

Moral:(Motivational Story In Hindi for success)

आजकल हमारे जीवन में भी ऐसा ही हो रहा है , जहाँ हम कोई गलती देखते है तो दुसरो पर दोसारोपन करना शुरू कर देते है , और दुसरो को सुधरने के लिए ज्ञान देते है , अगर हर इंसान खुद सुधरने लग जाये और अपनी गलती मानने लग जाये तो सब सही हो जायेगा ,

3.किसी और पर आश्रित ना रहे :(Motivational Story In Hindi for success)

Motivational Story In Hindi for success:प्राचीन समय में एक राजा रहता था , एक बार उसने अपनी प्रजा की परीक्षा लेने की सोची | अतः उसने गाँव की सड़क पर बड़ा सा पत्थर रख दिया और झाड़ियों में जाके छुप गया , यह देखने के लिए की देखे कोन इसको हटाता है

बहुत से लोग उस सड़क से आये लेकिन उस पत्थर को हटाने के बजाय उसके दाये-बाये से निकलने लगे , किसी ने उस पत्थर को सड़क के बिच से हटाने की नहीं सोची अपितु राजा को ही दोष देने लगे की “केसा राजा है , राज्य में साफ़ सफाई पर भी ध्यान नहीं देता , सडको पर ध्यान नहीं देता की क्या हो रहा है “

सभी लोग अलग-अलग प्रकार से कुछ ना कुछ राजा को ही बोलते लेकिन सड़क से वह पत्थर कोई नहीं हटाता |

Short motivational stories in hindi with moral

शाम के समय एक बुढा किसान हाथ में हल लिए उस रास्ते से अपने घर जा रहा था , उसने जब यह पत्थर देखा तो अपना हल सड़क के किनारे रखा और उस पत्थर को हटाने के कोशिश करने लगा ,

जब उसने उस पत्थर सड़क से हटाया तो उसे हीरे-जवाहरात से भरी हुई थेली देखी , उसने उसे उठाया तभी झाड़ियों में छुपा हुआ राजा बहार निकल के आ गया |

और उस किसान से कहाँ की “ये सब आप ही के लिए है “

में सुबह से देख रहा था लेकिन किसी ने इस पत्थर को हटाने की कोशिश नहीं की लेकिन आप बूढ़े होकर भी इस यह अच्छा काम कर रहे हो , इसीलिए ये हीरे जवाहरात आपका इनाम है |

Moral:(Motivational Story In Hindi for success)

अगर हमें भी अपने जीवन में एसी कुछ परेशानिया दिखे जिसको आप खुद सही कर सकते है तो किसी और के भरोसे नहीं बेठे | खुद कोशिश करे और उस समस्या को दूर कर दे |

4.प्रकति के नियमो से छेड़छाड़ ना करे |:(Motivational Story In Hindi for success)

Motivational Story In Hindi for success:एक बार एक आदमी अपने बगीचे में टहल रहा था ,  उसने देखा की एक तितली अपने अंडे से बाहर आने का प्रयास कर रही थी |

वह आदमी वहीँ बगीचे में बेठ गया और उस तितली को देखने लग गया , काफी समय बीत गया लेकिन तितली के काफी मेहनत और संघर्ष करने के बाद भी वह बाहर नही आ पा रही थी , ऐसा प्रतीत हो रहा था की वह उस अंडे में कहीं फस गयी है .

यह सब देख उस आदमी से रहा नही गया और उसने उस तितली की मदद करने की सोची और पास जाकर उस अंडे के छेद को हाथ से बड़ा कर दिया , और वह तितली बाहर आ गयी |

जब तितली अंडे से बाहर आ गयी तो उसने देखा की तितली का शरीर फुला हुआ है और पंख सूखे हुए है ,

Hindi motivational story

उसने सोचा की में थोड़ी देर और इन्तजार करता हूँ और अगर ये उड़ नहीं पायेगी तो इसकी मदद करूंगा |

लेकिन तितली उड़ नही पा रही रही थी ,क्योंकि जो तितली के  अंडे से बाहर निकलने की प्राक्रतिक प्रकिया थी वह नहीं हो पाई थी | और शायद आगे भी कभी नहीं उड़ पाई |

इतनी दयालु होने के बाद भी वह इंसान ये नहीं समझ पाया की “तितली का उस अंडे से निकलने में संघर्ष करवाना भगवान का एक रास्ता है उसे इस दुनिया में सुरक्षित लाने के लिए |



जब तक उस आदमी को यह बात समझ आई बहुत देर हो चुकी थी , और उसके पास पछतावे के अलावा और कोई रास्ता नहीं बचा था |

Moral:(Motivational Story In Hindi for success)

इससे हमे दो सिख मिलती है पहली यह की :-हमें प्रकति के नियमो से छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए ,

और दूसरी यह की :- मेहनत से ही हमे सब कुछ हासिल होता है , जेसे अगर उस आदमी ने तितली को बाहर ना निकाला होता तो वह खुद मेहनत करके बाहर आती और उसे उड़ने की शक्ति प्राप्त होती , लेकिन उस आदमी की गलती से ऐसा नहीं हुआ |

5.माँ की महिमा :(Motivational Story In Hindi for success)

Motivational Story In Hindi for success:एक बार एक अंग्रेज भारत आया और यहाँ पर एक व्यक्ति से मिला और उससे पूछा की “आप सब पहले “माँ” को पूजते है ,माँ को ही सबसे उचा दर्जा दिया जाता है , क्यों लोग पहले माँ को पूजते है और बाद में भगवान को |?

वह आदमी मुस्कुराया और अंग्रेज से बोला की “वो जो तुम्हारे पीछे पत्थर पड़ा है ,वो लेके आओ “|

अंग्रेज पत्थर लेकर आ गया |

अब उस आदमी ने कहाँ की “इस पत्थर को कपडे में लपेटकर अपने पेट पर बांध लो “

जब अंग्रेज ने वह पत्थर अपनी कमर पर बांध लिया तब उस आदमी ने कहाँ की यह पत्थर तुम  5 घंटे बांधकर रखना , बस इसे खोलना मत और 5 घंटे बाद में आना |

में तुम्हे बताता हूँ की  हम माँ को भगवान से भी ऊपर क्यों मानते है |

Best inspirational story

वह अंग्रेज वहां से चला गया , पत्थर के वजन की वजह से उसे चलने-फिरने,उठने-बेठने में बहुत तकलीफ महसूस हो रही थी , उसे पेट पर बहुत ही ज्यादा दर्द का अनुभव हो रहा था | अतः

वह अंग्रेज 1 घंटे पहले ही उस आदमी के पास आ गया और बोला की में इस पत्थर को हटा रहा हूँ ,कृपया आप वेसे ही बता दीजिये , आपसे निवेदन है |

आदमी ने उस अंग्रेज की तरफ मुस्कुरा कर के देखा और उसका वह पत्थर खोल दिया और कहा की “तुम ये पत्थर 5 घंटे भी अपने पेट से नहीं उठा सके और “माँ “ पुरे नौ महीने तक हमें पेट में रखती है ,सारा काम भी करती है लेकिन बिलकुल भी शिकायत नहीं करती | और मौत की गोद में जाकर जिन्दगी को जन्म देती है |

वह हमें किसी भी प्रकार का दुःख नहीं देती , हमेशा हमारी ख़ुशी की ही कामना करती है |

अंग्रेज को बात समझ आ गयी थी और वह माँ की महिमा जानकर बहुत ही धन्य हो गया था |

Moral:(Motivational Story In Hindi for success)

जिस प्रकार हमारे माता-पिता ने हमारे लिए तकलीफे सही है , हमारी खुशियों की कामना करी है उसी प्रकार जब उन्हें हमारी जरुरत हो तो हमे भी उनका साथ देना चाहिए , हमे अपने माँ-बाबा का ख्याल रखना चाहिये | माँ ही मंदिर है , माँ ही पूजा , माँ में सारा संसार समाया हुआ है |

6.अंतरात्मा की सुने :(Motivational Story In Hindi for success)

Motivational Story In Hindi for success:कॉलोनी के पार्क में दो बच्चे एक लड़का और एक लड़की खेल रहे थे , लड़के के पास बहुत से चमकदार पत्थर थे और लड़की के पास बहुत से चोकलेट थे |

लड़की ने जब वह पत्थर देखे तो उसने लड़के से कहाँ की “अगर तुम मुझे ये पत्थर दे दो तो में तुम्हे अपनी चोकलेट दे दूंगी |”

लड़के ने सोचा की मुझे तो वेसे भी बहुत दिन हो गये है इन पत्थर से खेलते हुए क्यों ना चोकलेट खा ली जाये इन पत्थर के बदले |

अतः उसने हां बोल दिया और पत्थर उस लड़की को दे दिए लेकिन उस लड़के ने  एक बहुत ही सुन्दर पत्थर छुपा लिया उसे दिया ही नहीं , और बाकि सभी पत्थर दे दिए |

Motivational story in hindi



सामान की अदला-बदली करने के बाद वह अपने-अपने घर चले गये |

लड़की तो बहुत खुश थी वह पत्थर लेकर लेकिन लड़के को बहुत बुरा महसूस हो रहा था क्योंकि उसने अपनी दोस्त के साथ धोखा किया था , उसने पुरे पत्थर नहीं दिए थे |

अतः जब सुबह हुई तो सबसे पहले वह उस लड़की के घर गया और वह पत्थर देकर आया और लड़की से माफ़ी भी मांगी | और अपने घर चला आया |

अब वह बहुत ही खुश था , ऐसा लग रहा था जेसे कोई बहुत बड़ा बोझ दिल से उतर गया हो |

Moral:(Motivational Story In Hindi for success)

जब हम अपनों के साथ या किसी के साथ भी धोखा देते है तो हमारा दिमाग उसमे साथ देता है लेकिन दिल कहता है की जो हम कर रहे है वह गलत है . अतः हमे दिल से सोचना चाहिए की हम क्या कर रहे है , हमारी वजह से किसी को तकलीफ तो नहीं हो रही | और हमे किसी के साथ भी धोखा नहीं करना चाहिए ,हमेशा ईमानदार रहना चाहिए |

आशा करता हूँ की आपको ये कहानियां (Motivational Story In Hindi for success) पसंद आई होगी, हमें कमेंट करने जरुर बताये की आपको कोनसी काहानी सबसे ज्यादा पसंद आई |

धन्यवाद |

ज्यादा पढ़े गये :-

 

 

 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here