Hindi Diwas Essay 14 September | हिंदी दिवस पर निबंध

0
297
Hindi Diwas
Hindi Diwas

भारत में हर साल हिंदी दिवस –14 सितम्बर को ही मनाया जाता है,लोग हिंदी भाषा के एतिहासिक पलो को याद कर इस दिवस को मनाते है। 14 सितम्बर 1949 को हिंदी भाषा को भारत गणराज्य की आधिकारिक भाषा के रूप में हिंदी को अपनाया और तभी से देश में 14 सितम्बर का दिन हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

गूगल ट्रेंड (Google Trends) में टॉप पर सर्च किये जा रहे हैं। हिंदी दिवस पर भाषण (Hindi Diwas Speech), हिंदी दिवस पर निबंध (Hindi Diwas Essay), हिंदी दिवस पर नारा (Hindi Diwas Slogan), हिंदी दिवस पर कविता (Hindi Diwas Poem), हिंदी दिवस पर कहानी (Hindi Diwas Story), हिंदी दिवस पर शायरी (Hindi Diwas Shayari), हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं संदेश (Hindi Diwas Wishes), हिंदी दिवस क्विज (Hindi Diwas Quiz), हिंदी दिवस क्विज प्रतियोगिता (Hindi Diwas Quiz Competition), हिंदी दिवस की फोटो (Hindi Diwas Photo), हिंदी दिवस वॉलपेपर (Hindi Diwas Wallpaper), हिंदी दिवस इमेज (Hindi Diwas Images), हिंदी दिवस पोस्टर (Hindi Diwas Poster), हिंदी दिवस ग्रीटिंग कार्ड्स (Hindi Diwas Greeting Cards), हिंदी दिवस कार्ड (Hindi Diwas Card), हिंदी दिवस स्टेटस (Hindi Diwas Status) और हिंदी दिवस बैनर (Hindi Diwas Banner),

लेकिन हम आपको इस हिंदी दिवस पर लेख के माध्यम से हिंदी दिवस क्यों मनाया जाता है ? हिंदी दिवस कब मनाया जाता है ? हिंदी दिवस कैसे मनाया जाता है ? हिंदी दिवस का इतिहाश क्या है ? हिंदी दिवस के तथ्य क्या है ? हिंदी दिवस पर भाषण हिंदी में कैसे लिखें ? हिंदी दिवस का महत्व क्या है ? हिंदी दिवस की शुरुआत कब कैसे हुई ? हिंदी दिवस पर निबंध हिंदी में कैसे लिखें ? और हिंदी दिवस पर 10 लाइन हिंदी में कैसे लिखें ? इसकी जानकारी देंगे। तो आइये जानते हैं हिंदी दिवस से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियाँ.

हिन्दी दिवस पर निबंध (Essay on Hindi Diwas in Hindi)

प्रस्तावना

भारत के संविधान ने देवनागरी लिपि में लिखित हिंदी भाषा को 1950 के अनुच्छेद 343 के तहत देश की आधिकारिक भाषा के रूप में 1950 में अपनाया। इसके साथ ही भारत सरकार के स्तर पर अंग्रेजी और हिंदी दोनों भाषाएं औपचारिक रूप से इस्तेमाल हुईं। 1949 में भारत की संविधान सभा ने देश की आधिकारिक भाषा के रूप में हिंदी को अपनाया। वर्ष 1949 से प्रत्येक वर्ष 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है।

हिन्दी, दुनिया की सबसे समृद्ध, प्राचीन, और सरल भाषा है साथ ही दुनिया की प्रमुख भाषाओं में से एक है। हिन्दी हमारी भारतीय संस्कारों और भारतीय संस्कृती का अनूठा प्रतिबिंब है। साथ ही हम सभी हिन्दुस्तानियों के सम्मान और स्वाभिमान की भाषा है, जिसने विश्व में भारतीयों को एक नई पहचान दिलवाई है।

हिंदी दिवस का महत्व

हिंदी दिवस को उस दिन को याद करने के लिए मनाया जाता है, जिस दिन हिंदी भाषा हमारे देश की आधिकारिक भाषा बन गई। हर साल हिंदी के महत्व पर जोर देने और पीढ़ी दर पीढ़ी इसको बढ़ावा देने के लिए मनाया जाता है, यह युवाओं को अपनी जड़ों के बारे में याद दिलाने का एक अच्छा तरीका है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम कहाँ तक पहुंचे हैं और हम क्या करते हैं अगर हम अपनी जड़ों के साथ मैदान में डटे रहे और समन्वयित रहें तो हम अपनी पकड़ मजबूत बना लेंगे।

यह दिन हर साल हमें हमारी मुख्य भाषा की पहचान याद दिलाता है और देश के लोगों को एकजुट करता है। जहाँ  भी हम जाएँ हमारी भाषा, संस्कृति और मूल्य हमारे साथ बरक़रार रहने चाहिए और ये एक अनुस्मारक के रूप में कार्य करते है। हिंदी दिवस एक ऐसा दिन है जो हमें देशभक्ति भावना के लिए प्रेरित करता है।

निष्कर्ष

आजकल अंग्रेजी भाषा की बढ़ती जरूरत की वजह से हम लोग हिन्दी भाषा की तरफ कम ध्यान देते है। इसलिए इसके अस्तित्व को बचाने के लिए हम सभी हिन्दुस्तानी मिलकर हिन्दी दिवस को मनाते हैं।

हिन्दी दिवस मनाने का उद्देश्य सही अर्थ में तभी सार्थक होगा, जब हम सभी भारतीय हिन्दी भाषा का सम्मान करेंगे एवं इसकी रक्षा करने का संकल्प लेंगे तभी हमारा देश विकसित देशों में शामिल हो सकेगा और सही तरीके से विकास कर सकेगा, क्योंकि किसी भी देश की राष्ट्रभाषा उस देश के विकास का महत्वपूर्ण आधार मानी जाती है।

Hindi Diwas Par Nibandh-2

प्रस्तावना

हमारे देश में हर साल हिन्दी भाषा के महत्व के प्रति लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से 14 September को हिन्दी दिवस के रुप में मनाया जाता है। हिन्दी भाषा भारतीय संस्कृति एवं संस्कारों को प्रदर्शित करती है, इसके साथ ही यह हर हिन्दुस्तानी का सम्मान है दिलो की जान है।

यह भाषा हमारे देश की राष्ट्रीय एकता का प्रतीक मानी जाती है क्योंकि हमारे देश में कई अलग-अलग जाति और वेशभूषा के लोग रहते हैं, जिनके खान-पान, वेशभूषा , रहन-सहन, एवं बोली आदि में काफी अंतर है लेकिन फिर भी ज्यादातर लोगों द्धारा देश में हिन्दी भाषा की बोली जाती है।

इस तरह हिन्दी भाषा हम सभी हिन्दुस्तानियों को एक धागे में जोड़ने का काम करती है। हिन्दी साहित्य, विश्व के सबसे समृद्ध और प्राचीन साहित्यों में से एक है। वहीं हिन्दी भाषा की गरिमा और इसके महत्व को बड़े-बड़े साहित्यकारों ने कविताओं एवं अपनी रचनाओं आदि के माध्यम से बताया है। इस भाषा के प्रति सम्मान व्यक्त करने के लिए हर साल हिन्दी दिवस मनाया जाता है।

हिंदी दिवस – उत्सव

हिंदी दिवस को हम स्कूलों, कॉलेजों और कार्यालयों के साथ-साथ राष्ट्रीय स्तर पर भी मनाते है ,जिसमें देश के राष्ट्रपति उन लोगों को पुरस्कार देते हैं जिन्होंने हिंदी भाषा से संबंधित किसी भी क्षेत्र में महानता हासिल की है।

स्कूलों और कॉलेजों में अध्यापक और विद्यार्थियों द्वारा हिंदी वाद-विवाद, कविता या कहानी बोलने की प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती है | सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं और शिक्षक हिंदी भाषा के महत्व पर जोर देने के लिए भाषण भी देते हैं। कई स्कूल हिंदी वाद-विवाद और कविता प्रतियोगिताओं की मेजबानी करते हैं। इंटर-स्कूल हिंदी निबंध और कहानी लेखन प्रतियोगिता भी आयोजित की जाती है।

यह दिन कार्यालयों और कई सरकारी संस्थानों में भी मनाया जाता है। भारतीय संस्कृति को आनन्दित और मनमोहक करने के लिए लोग भारतीय परिधान पहनते हैं। महिलाएं सूट और साड़ियाँ पहनती हैं और पुरुष इस दिन कुर्ता पजामा पहनते हैं। इस दिन सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं और लोग उत्साह से उसमें भाग लेते हैं। बहुत से लोग हिंदी कविता पढ़ना और हमारी संस्कृति के महत्व के बारे में बात करते हैं।

हिंदी – भारत में सबसे अधिक बोलने वाली भाषा

निस्संदेह भारत में हिंदी सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाला भाषा है। हालांकि अंग्रेजी भाषा के प्रति अभी भी भारतवासियों का झुकाव है और इसके महत्व पर स्कूलों,कॉलेजों और अन्य स्थानों पर जोर दिया जाता है परन्तु हिंदी हमारे देश की सबसे व्यापक रूप से बोली जाने वाली भाषा के रूप में मजबूत है।

2011 की जनगणना के भाषा संबंधी आंकड़े बताते हैं कि हिंदी भारत की सबसे तेजी से बढ़ने वाली भाषा है, 2001 से 2011 के बीच के दस सालों में हिंदी बोलने वाले लोगों संख्या में करीब 10 करोड़ की वृद्धि दर्ज की गई है | आंक़ड़ों के मुताबिक हिंदी की वृद्धि दर 25.19 फीसदी रही, ताजा आकड़ो के मुताबिक भारत में सबसे ज्यादा करीब 52 करोड़ लोग हिंदी बोलते हैं, इसके बाद 9.7 करोड़ लोग बंगाली, दो लाख साठ हजार लोगों ने अंग्रेजी को अपनी मातृभाषा बताया है |

निष्कर्ष

हिंदी दिवस को विभिन्न स्थानों पर बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है अपितु हमारे देश में बहुत से लोग इस दिन के बारे में भी सही से नहीं जानते हैं और बहुत से लोग इसे महत्वपूर्ण भी नहीं मानते हैं। यही समय है कि लोगों को इस दिन के महत्व को पहचानना चाहिए क्योंकि यह हमारी राष्ट्रीय भाषा और हमारी सांस्कृतिक आधार को याद करने का दिन है।

Hindi Diwas Essay-3

प्रस्तावना

हिंदी भाषा को सम्मान देने के लिए प्रत्येक वर्ष 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है और इसी दिन इसे भारत की आधिकारिक भाषा घोषित किया गया था। दुनिया की तीसरी व्यापक बोली जाने वाली भाषा के रूप में इसके महत्व का जश्न मनाने के लिए एक खास दिन सम्मान देने के लिए निश्चित किया गया है। इस भाषा के बारे में कई दिलचस्प तथ्य हैं जो इसे अद्वितीय बनाते हैं।

हिंदी भाषा के बारे में दिलचस्प तथ्य :

हिंदी भाषा के बारे में कई दिलचस्प तथ्य हैं जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

  • हिंदी नाम फारसी शब्द हिंद से बना है, जिसका अर्थ है कि सिंधु नदी की भूमि।
  • हिंदी मूलतः भाषाओं के इंडो-यूरोपियन परिवार के इंडो-आर्यन भाषाओं के सदस्यों में से एक है।
  • भाषा में कोई भी लेख शामिल नहीं है।
  • हिंदी को पूरी तरह देवनागरी लिपि में लिखा गया है। इस भाषा के शब्दों को उसी तरह स्पष्ट किया जाता है जिस तरह से वे लिखे गए हैं।
  • दुनिया भर में ऐसे कई शब्दों का प्रयोग किया जाता है जो हमे लगता है कि ये अंग्रेजी के शब्द हैं लेकिन वास्तव में ये शब्द हिंदी भाषा से हैं। इनमें से कुछ शब्द जंगल, लूट, बंगला, योग, कर्म, अवतार और गुरु हैं।
  • हिंदी भाषा में सभी संज्ञाओं में लिंग हैं। ये या तो स्त्रीलिंग हैं या पुल्लिंग हैं। इस भाषा में विशेषण और क्रियाएँ लिंग के आधार पर भिन्न होती हैं।
  • यह उन सात भाषाओं में से एक है जो वेब एड्रेस बनाने के लिए प्रयोग में ली जाती हैं।
  • दुनिया में हर ध्वनि हिंदी भाषा में लिखी जा सकती है।
  • हिंदी भाषा का प्रयोग सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया भर के अन्य देशों में भी किया जाता है जिनमें पाकिस्तान, फिजी, नेपाल, सिंगापुर, न्यूजीलैंड, यूनाइटेड अरब एमिरेट्स और ऑस्ट्रेलिया शामिल हैं।

स्कूलों में हिंदी दिवस जरुर मनाया जाना चाहिए :

हिंदी भारत में सबसे अधिक व्यापक रूप से बोली जाने वाली भाषा है और इसे भारत गणराज्य की आधिकारिक भाषाओं के रूप में स्वीकृत किया गया है परन्तु भारत में अधिकांश विद्यालयों को इसे महत्वहीन मानते हैं। अंग्रेजी को अधिक महत्व दिया जाता है और मौखिक और लिखित अंग्रेजी दोनों सीखने पर दबाव बनाया जाता है।

बच्चे इस समय में एक अलग मानसिकता के साथ बड़े होते हैं। उनके हिसाब से जो व्यक्ति अंग्रेजी बोलता है वह सब कुछ जानता है और अन्य लोग, जो अंग्रेजी नहीं जानते, वो बेकार हैं। जो लोग साक्षात्कार या अन्य जगहों पर हिंदी बोलते हैं उन्हें कम आंका जाता है। इस मानसिकता को बदला जाना चाहिए। यह सच है कि अंग्रेजी एक वैश्विक भाषा है और इसे विशेष रूप से कॉर्पोरेट जगत में प्राथमिकता दी जाती है , हालांकि उन्हें यह नहीं समझना चाहिए कि हिंदी किसी भी वजह से अंग्रेजी से कम है। यह समय है कि विद्यार्थियों को दोनों भाषाओं, अंग्रेजी और हिंदी, को एक जैसा मानना ​​और सम्मान करना सिखाया जाना चाहिए।

जैसे विद्यालय दीवाली, स्वतंत्रता दिवस,गणतंत्र दिवस ,जन्माष्टमी जैसे अन्य विशेष अवसरों पर मजेदार गतिविधियों और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं उसी तरह उन्हें अपनी मातृभाषा को सम्मान देने के लिए हिंदी दिवस को मनाना चाहिए।

निष्कर्ष

हिंदी दिवस हमारे सांस्कृतिक जड़ों को फिर से देखने और अपनी समृद्धता का जश्न मनाने का दिन है। हिंदी हमारी मातृभाषा है और हमें इसका आदर और उसका मूल्य समझना चाहिए।

हिन्दी दिवस मनाने के मुख्य उद्देश्य

  • हिन्दी के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करना।
  • अपनी राष्ट्रभाषा के प्रति सम्मान की भावना पैदा करना।
  • आज की युवा पीढ़ी को हिन्दी के महत्व को समझाना।
  • अपनी मातृभाषा की रक्षा और उसका विकास करना।
  • हिन्दी की तरफ लोगों का ध्यान आर्कषित करना।
  • हिन्दी भाषा को उचित दर्जा दिलवाना।

हिंदी की प्रतिष्ठा और महत्व से संबंधित विशेष घटनाएं

कई स्कूल और अन्य संस्थान हर साल हिंदी दिवस मनाते हैं। यहां इस दिन के सम्मान में विशेष समारोहों का आयोजन किया गया है:

  • भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने हिंदी से संबंधित विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्टता के लिए विभिन्न श्रेणियों में पुरस्कार प्रदान किए। हिंदी दिवस के सम्मान में विज्ञान भवन नई दिल्ली में एक समारोह आयोजित किया गया था।
  • इस दिवस पर विभागों, मंत्रालयों, राष्ट्रीयकृत बैंकों और सार्वजनिक उपक्रमों को राजभाषा पुरस्कार भी प्रदान किए जाते हैं।
  • केंद्र में सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी की वजह से हिंदी भाषा और हिंदी दिवसों को महत्व और मान्यता देने की दिशा में बढ़ोतरी हुई है।
  • भोपाल में आयोजित एक विश्व हिंदी सम्मेलन में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अंग्रेजी, हिंदी और चीनी डिजिटल दुनिया पर शासन करने जा रहे हैं ताकि भाषा के महत्व पर जोर दिया जा सके।
  • केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी संयुक्त राष्ट्र में हिंदी के लिए आधिकारिक भाषा का दर्जा लेने का मुद्दा उठाया था।

Note: आपके पास hindi diwas essay in Hindi मैं और information हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे।

धन्यवाद |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here