Health is Wealth Essay | स्वास्थ्य ही धन है

0
308
Health is Wealth Essay | स्वास्थ्य ही धन है
Health is Wealth Essay | स्वास्थ्य ही धन है

आज के इस लेखन मे हमने Health is Wealth | स्वास्थ्य ही धन है पर छात्रों के लिए हिंदी भाषा में निबंध (essay) लिखा है। इस निबंध से हमें  हमारे लिए “स्वास्थ्य कितना जरुरी है” के विषय मे पता चलता है। आखिर धन क्यों स्वास्थ्य (Health ) से बढ़ कर नहीं है यह भी हमने इस लेखन में बताया है

Intro (Health is Wealth | स्वास्थ्य ही धन है)

किसी ने सही ही कहा है की | स्वास्थ्य ही धन है  | या धन से भी बहुत ऊपर है | हम मेहनत करके पैसा कम सकते है लेकिन जब स्वास्थ्य ही ठीक नही रहेगा तो हम मेहनत करने के काबिल नही रहेंगे |जब इंसान स्वस्थ्य रहता है तो वह अपने जीवन में सभी प्रकार का आनंद ले सकता है |

आप अपने आप से ये सवाल कीजिये की क्या आप अपने स्वास्थ्य को बिना ध्यान में रखे हुए अपने कमाए हुए धन का इस्तेमाल कर पाएंगे ? |

क्या आप ख़राब स्वास्थ्य के साथ बाकि सब चीजों को आनंद ले पाएंगे ? |

आपका जवाब होगा “नही”

तो आज ही से आप अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखिये |

आधुनिक युग मे स्वास्थ्य और धन Health and Money in modern Age 

आज का युग बहुत ही वयस्त और मुश्किलो से भरा हुआ है | सभी पैसा कमाने में इतना वय्सत है की किसी को भी अपनी हेल्थ की परवाह नहीं होती | सब भूल गये है की Health is Wealth  स्वास्थ्य ही धन है | office के काम-काज में इतने busy हो जाते है की हम ना तो समय पर खाना खा पाते है और ना ही व्यायाम कर पाते है |हमे इन सब चीजों से ऊपर उठकर हमे हमारे हेल्थ के बारे में भी सोचना चाहिए |

इन बातो का रखे ध्यान :-

बिना अच्छे स्वास्थ्य के पैसों का कोई मूल्य नहीं है। इसीलिए हमे रोज सुबह सूरज निकलने से पहले ताज़ी हवा में घूमना चाहिए | हल्का-फुल्का व्यायाम अवश्य करना चाहिए | सुबह खली पेट गुनगुना पानी पीना चाहिए | समय पर भोजन करना चाहिए और भोजन में पोष्टिक चीज़े लेनी चाहिए | उसके बाद अपने कार्यालय के कामो की शुरुआत करनी चाहिए |

एक अच्छा स्वास्थ्य हमारी कई चिंताओं को दूर करता है और रोगों से परे हमे खुशहाल जीवन जीने में मदद करता है | हमे हमेशा हँसते रहना चाहिए | हँसते रहने से भी HEALTH ठीक रहती है |

हमें खाने में हमेशा पोष्टिक चीज़े (दाल,हरी-सब्जिया,ताजे फल , दूध-दही  ) का उपयोग करना चाहिए | साथ की साथ हमे खाना खाने के बाद कम से कम 500 कदम टहलना भी चाहिए | और रात को हमे हल्का भोजन (मतलब आप अगर दिन में 4 चपाती खाते हो तो रात में 2 ही खाइए ) लेना चाहिए |

दिन के भोजन में हमे दही का उपयोग जरुर करना चाहिए यह हमारे पाचन के लिए बहुत अच्छा रहता है लेकिन रात के भोजन में हमे खट्टी चीजों (दही ) का सेवन नहीं करना चाहिए|

आज के युग में बढती मुश्किलें (increase problems today moderan age )

पुराने ज़माने में प्रत्येक व्यक्ति दिनभर परिश्रम किया करता था | जिससे ढेर सारा व्यायाम हो जाया करता था | लेकिन इस technology के युग में इतनी मशीन आ गयी की सारा काम बहुत ही कम मेहनत में हो जाता है |

मशीनों ने इंसान को बहुत आलसी बना दिया है , जिसकी वजह से वो न तो कसरत करना चाहता है और न ही काम | जिससे उसका वजन भी बढ़ जाता है , लेकिन उसे ये नहीं पता की इससे उसका स्वास्थ्य बिगड़ता जा रहा है | ऑफिस भी हम गाड़ी से जाते है , घर पर भी आस-पास का कम होता है तो भी हम पैदल नहीं चलते | हम भूलते जा रहे है की स्वास्थ्य ही धन है |

जेसे-जेसे शहरो का विकाश होता गया सुविधाए बढती गयी , वेसे-वेसे ही पेड़-पोधो का अन्त होता गया | इंसान ने अपने फायदे के लिए जंगल के जंगल साफ़ कर दिए इसकी वजह से शुद्ध हवा भी हमे कम मिलने लग गयी |

अतः हमे हमारे घर और हमारे आस-पास में पेड़ पोधे लगाने चाहिए जिससे वातावरण शुद्ध होगा | और हमे ताजी हवा मिलती रहेगी, इससे हमारे स्वास्थ्य पर भी अच्छा असर पड़ेगा |

निष्कर्ष (CONCLUSION)

माना की ये बात सच है की हमे हमारे जीवन की आवश्यक्ताओ की पूर्ति हेतु धन कमाना जरुरी है लेकिन जीवन में बिना अच्छे स्वास्थ्य के उन पेसो का कोई मोल नहीं है | अतः अपने कार्य के साथ-साथ अपनी HEALTH का भी ध्यान रखे |

खुश रहे स्वस्थ्य रहे |

ये भी पढ़े :-

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here