What is Ajinomoto and side effects in hindi-अजीनोमोटो व उसके नुकसान क्या है ?

0
422
ajinomoto in hindi

AJI-NO-MOTO (C5H8NNaO4)

What Is Ajinomoto And Ajinomoto Side Effects In Hindi : अजीनोमोटो नमक अपने आप में एक खास स्वादिस्ट नमक होता है, जिसका अधिकतर उपयोग “इंडो चाइनीज” खाने में किया जाता है , इसका मुख्यतः उपयोग चीन अपने खाद्य पदार्थो के स्वाद को बढ़ाने के लिए किया जाता है.

पुराने समय में हम घर पर बने खाने को खाते थे, लेकिन अब लोग फ़ास्ट फ़ूड जेसे की (चिप्स, पिज्ज़ा और मैगी) जैसे खाने को ज्यादा पसंद करने लगे है जिनमे Ajinomoto का इस्तेमाल होता है, इसका इस्तेमाल कई डिब्बाबंद फ़ूड सोया सॉस, टोमेटो सॉस, संरक्षित मछली जैसे सभी संरक्षित खाद्य उत्पादों में स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है |

आज हम इस पोस्ट में AJI-NO-MOTO के बारे में विस्तार से जानेंगे, जिसमे हम What Is Ajinomoto,Ajinomoto benifits, loss के बारे में बात करेंगे ,तो आइये शुरू करते है |

अजीनोमोटो क्या है | What Is Ajinomoto In Hindi :

Ajinomoto को पहली बार 1909 में जापानी जैव रसायनज्ञ “किकुनाए इकेडा” के द्वारा खोजा गया था,इन्होने इसके स्वाद को “मामी के रूप में पहचाना जिसका अर्थ होता है सुखद स्वाद” जापानी सूप में इसका इस्तेमाल होता है, इसका जायका थोडा नमक के जैसा होता है, दिखावट में यह चमकीले छोटे क्रिस्टल के जैसा होता है, इसमें प्राकृतिक रूप से एमिनो एसिड पाया जाता है |

इसका सीमित मात्रा में सेवन करना सही है लेकिन अत्यधिक मात्रा में इसका उपयोग करने से यह हानिकारक होता है इसे जिस खाने में डाला जाता है ये उसका स्वाद साधारण नमक की अपेक्षा बढ़ा देता है |

अजीनोमोटो का उपयोग | Ajinomoto Uses in hindi:

  • इसका मुख्यतया उपयोग चाइनीज खाने में किया जाता है ,अजीनोमोटो ( Ajinomoto ) का उपयोग करके कुक  खाने को स्वादिष्ट बनाते है |
  • MSG का इस्तेमाल सुरक्षित माना गया है, लेकिन इसको लेकर कुछ अफवाहे भी है, जो वैज्ञानिक रूप से अभी प्रमाणित नहीं हुई है, इसका उपयोग सब्जियों के मसाले में किया जाता है |
  • अजीनोमोटो 1908 में एक ब्रांड के रूप में व्यावसायिक तौर पर आया, लेकिन आज दुनिया के हर कुक खाने में स्वाद को बढ़ाने के लिए इसका उपयोग कर रहे है |

अजीनोमोटो के लाभ (Ajinomoto benefit in hindi):

कुछ खाद्य पदार्थो (वेज और नॉन वेज )जेसे की (टमाटर ,समुद्री मछली, पनीर और मशरूम) में प्राकृतिक रूप से ग्लूटामेट पाया जाता है जिससे इसमें अलग से इसका इस्तेमाल नहीं किया जाता और यह हानिकारक भी नहीं होता है|

अतः अगर कोई व्यक्ति स्वस्थ है और उसको इसे खाने से कोई समस्या नहीं है तो उसे इसका सेवन करने में कोई परेशानी नहीं होगी | U.S FOOD AND DRUG ADMINISTRATION ने इसके सेवन को सामान्य रूप से सुरक्षित माना है |

अजीनोमोटो के नुकसान (Ajinomoto side effects in hindi):

Ajinomoto का इस्तेमाल पहले चीन की रसोईयों में ही होता था, लेकिन अब यह धीरे-धीरे हमारे घरों की रसोईयों  में भी अपने पैर पसार चूका है, स्वाद के चक्कर में जो हम 2 मिनट में नुडल्स को तैयार कर खाते है, मुख्यतया इस प्रकार के खाद्य पदार्थो में यह पाया जाता है जो हमे पता नहीं चलता और यह धीरे-धीरे हमारे शरीर को नुकसान पहुचाता है |

  • यह आँखों की रेटिना को नुकसान पहुंचाता है और साथ ही यह थायराईड और कैंसर जैसे रोगों के लक्षण पैदा कर सकता है |
  • इसके अत्यधिक सेवन से मनुष्य शरीर में इन्सुलिन की मात्रा बढ़ जाती है. जब आप एमएसजी मिले पदार्थो का सेवन करते है. तो रक्त में ग्लूटामेट का स्तर बढ़ जाता है, जिस वजह से इसका शरीर पर गंभीर प्रभाव पड़ता है |
  • यह एक नशे की लत जैसा होता है अगर आप एक बार अजीनोमोटो युक्त भोजन को ग्रहण कर लेते है, तो आपमें उस भोजन को नियमित खाने की इच्छा होने लगेगी |

अजीनोमोटो का इस्तेमाल हानिकारक है (Ajinomoto harmful effects in hindi):

  • तंत्रिका तंत्र पर प्रभाव – एमएसजी तंत्रिका को प्रेरित कर उसमे असंतुलन पैदा कर सकता है, जिस वजह से गर्दन का अकड़ना या खिचाव के साथ शरीर में झुनझुनी पैदा होने लगती है, इसके सेवन से अल्झाइमर, पार्किन्सन, मल्टीप्ल, स्क्लेरोसिस जेसे लक्षण पैदा होने लगते है, अजीनोमोटो एक नयूरोत्रन्स्मित्टर है जो अनिंद्रा जैसे विकारों के भी लक्षण पैदा कर सकते है |
  • माइग्रेन – अजीनोमोटो से युक्त खाद्य पदार्थो का अगर नियमित रूप से सेवन किया जाये तो यह माइग्रेन पैदा कर सकता है जिसको हम अधकपाली भी कहते है, इस बीमारी में आधे सिर (मुख्य बिच वाले हिस्सा) में हल्का हल्का दर्द होता रहता है |
  • बाँझपन –महिलाओं को इसका सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह महिला और बच्चे के बीच भोजन आपूर्ति में बाधक बन सकता है, साथ ही यह मस्तिष्क के नयूरोंस पर भी बुरा प्रभाव डालता है, यह शरीर में सोडियम की मात्रा को बढ़ा देता है जिस वजह से रक्तचाप बढ़ने का खतरा बढ़ जाता है, साथ ही पैरों में सूजन की समस्या भी  होने लगती है |
  • बच्चो के लिए हानिकारक : बच्चो को अजीनोमोटो युक्त खाध्य पदार्थो से दूर रखना चाहिए क्योंकि इसका प्रभाव बच्चो पर अधिक हो सकता है |
  • सीने में दर्द – अजीनोमोटो का सेवन करने से अचानक सीने में दर्द, धड़कन का बढ़ जाना और ह्रदय की मांसपेशियों में खिचाव होने लगता है |
  • मोटापा बढ़ना – अजीनोमोटो के अधिक सेवन से मोटापे के बढ़ने का खतरा हमेशा बना रहता है हमारे शरीर में मौजूद हॉर्मोन भोजन के अधिक सेवन को रोकने के लिए हमारे मस्तिष्क को संकेत देते है, अजीनोमोटो के सेवन से यह क्रिया प्रभावित हो सकती है , जिस वजह से हम ज्यादा भोजन कर जल्द ही मोटापे से ग्रस्त हो सकते है |

अजीनोमोटो निष्कर्ष | Ajinomoto Conclusion :

चाहे कितनी ही अच्छी खाने की वास्तु हो ,चाहे दूध हो , पनीर हो या शुद्ध खाना भी हो अगर हम जरुरत से ज्यादा खा जाते है तो हमे वह नुकसान पहुचाता है , इसी तरह अजीनोमोटो भी है, इसका जरुरत से ज्यादा  इस्तेमाल किसी भी  व्यक्ति को नुकसान पंहुचा सकता है, अतः जब भी आप इसका सेवन करे ऊपर वर्णित लक्षण दिखने पर इसका सेवन बंद कर दे और डॉ. से परामर्श ले |

धन्यवाद |

यह भी पढ़े :-

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here